आरएफसीए बिल पर एकतरफा प्रलाप

इतिहास का अध्ययन एवं खोज इसलिए आवश्यक है क्योंकि अनुभव हमें भविष्य में गलतियां दोहराने से बचा सकता है। अनुभव के आधार पर ही ऐतिहासिक घटनाओं को सही और गलत ठहराया जाता है। यदि वर्तमान के अनुभव बताते हों कि इतिहास में किसी घटना या व्यवस्था को इसलिए गलत या आपराधिक समझा गया क्योंकि सिद्धांत

चिंताजनक: राज्य बनने के बाद चार से पांच गुना गति से घट रहा है नैनी झील का जल स्तर

-1999 की शुरुआत में कमोबेश समान कम बारिश की स्थितियों में प्रतिदिन औसतन 5.3 मिमी की गति से गिरा था जल स्तर, जबकि इधर नवंबर में 23.3 व दिसंबर में 20.2 मिमी गिरा -इधर जनवरी माह में पानी की रोस्टिंग के बाद भी प्रतिदिन 12.7 मिमी की दर से गिरा है जलस्तर नवीन जोशी, नैनीताल।

ब्लू, सुपर व ब्लड मून चंद्रग्रहण के बहाने धरती की सेहत जांचने में जुटे भारत व जापान के वैज्ञानिक

इस अध्ययन से यदि कोई नये वैज्ञानिक तथ्य स्थापित होते हैं, तो वैज्ञानिक दूसरे ग्रहों पर जीवन की संभावनाओं जैसे बड़े लक्ष्य के लिए भी कर सकते हैं इस तकनीक का उपयोग एरीज में 104 सेमी की दूरबीन पर एरीज द्वारा ही निर्मित यंत्र पोलेरोमीटर से रख रहे हैं चांद पर नजर आसमान में हल्के

यह था भारत की युवा पीढ़ियों में ‘प्रतिभा ह्रास’ करने का सबसे बड़ा षड्यंत्र !

 एक पुराना आलेख : अमेरिका, विश्व बैंक, प्रधानमंत्री जी और ग्रेडिंग प्रणाली नवीन जोशी, नैनीताल, रविवार, 10 अक्टूबर 2010।  हाल में आयी एक खबर में कहा गया है ‘विश्व बैंक ने भारत को अधिक से अधिक बच्चों को शिक्षा सुविधाएं मुहैया कराने के लिए एक अरब पांच करोड़ डॉलर यानी 5,250 करोड़ रुपये से अधिक के ऋण की

इतिहास होने की ओर शेरशाह सूरी के जमाने की ‘गांधी पुलिस’ और ‘गाँधी’…

प्रदेश में राष्ट्रपिता महात्मा गाँधी के नाम से ‘गाँधी पुलिस’ कही जाने वाली 150 वर्षों से चली आ रही राजस्व पुलिस व्यवस्था अब इतिहास बन जाएगी। और इसके साथ लगता है कि गाँधी के ‘अहिंसात्मक’ सन्देश भी कहीं पीछे छूट जायेंगे। उत्तराखंड उच्च न्यायलय नैनीताल ने राजस्व पुलिस को तफ्तीश व कार्यवाही में असफल बताते हुए पूरे

जज साहेब, तब खतरे में नहीं थे लोकतंत्र, न्यायपालिका ?

जज साहेब कह रहे हैं कि न्यायपालिका खतरे में है। वे हाकिम हैं, हुजूर हैं, माई-बाप हैं। कह रहे हैं तो सचमुच न्यायपालिका संकट में ही होगी। मैं लोकतंत्र का एक अदना सा दास हूँ, मेरी इतनी सामर्थ्य कहाँ जो उनकी बात को काट सकूं। मुझे बस एक बात समझ में नहीं आती, कि यह

बीमार राष्ट्रीय पक्षी को बचाने के लिए बनाया नेबुलाइजर का ‘जुगाड़’

-शेड्यूल एक का प्राणी भारतीय मोर करीब चार दिन से हैं ठंड की वजह से बीमार -नैनीताल चिड़ियाघर में चिकित्सक डा. भारद्वाज कर रहे मनुष्यों के नेबुलाइजर से इलाज नवीन जोशी, नैनीताल। संशाधनों की कमी से ही खासकर ‘अपने हित के लिए जुगाड़’ तैयार होते हैं। शायद इसीलिए भारत को ‘जुगाड़ों का देश’ भी कहा

विश्व व भारत में पत्रकारिता

विश्व व भारत में पत्रकारिता का इतिहास मानव सभ्यता करीब 150-200 करोड़ वर्ष पुरानी मानी जाती है। उत्तराखंड के कालागढ़ के निकट मिले करीब 150 करोड़ वर्ष पुराने ‘रामा पिथेकस काल’ (Ramapithecus age) के माने जाने वाले एक मानव जीवाश्म से भी इसकी पुष्टि होती है। लेकिन मानव में संचार के जरूरी मूलभूत ज्ञानेंद्रियों का

कुमाऊं के लोक देवी-देवता

देवभूमि उत्तराखंड की दो में से से एक व पुरानी कमिश्नरी कुमाऊं अंचल की अपनी अनेक विशिष्टताएं हैं। उत्तर में उत्तुंग हिमाच्छादित नंदादेवी, नंदाकोट व त्रिशूल की सुरम्य पर्वत मालाएं, पूर्व में पशुपति नाथ व गोरखों की धरती नेपाल, पश्चिम में उत्तराखंड की दूसरी कमिश्नरी व चार धामों का गढ़ गढ़वाल तथा दक्षिण में मैदानी

आस्था के साथ ही सांस्कृतिक-ऐतिहासिक धरोहर भी हैं ‘जागर’

इस तरह ‘जागर’ के दौरान पारलौकिक शक्तियों के वसीभूत होकर झूमते हें ‘डंगरिये’ कुमाऊं के जटिल भौगोलिक परिस्थितियों वाले दुर्गम पर्वतीय क्षेत्रों में संगीत की मौखिक परम्पराओं के अनेक विशिष्ट रूप प्रचलित हैं। उत्तराखंड के इस अंचल की संस्कृति में बहुत गहरे तक बैठी प्रकृति यहां की लोक संस्कृति के अन्य अंगों की तरह यहां

गूगल ने चिपको आन्दोलन पर डूडल बनाकर बढाया उत्तराखंड का मान

चिपको से रहा है उत्तराखण्ड की महिलाओं के आन्दोलन का इतिहास गौरा देवी महिलाएं उत्तराखंड की दैनिक काम-काज से लेकर हर क्षेत्र में धूरी हैं। कदाचित वह पुरुषों के नौकरी हेतु पलायन के बाद पूरे पहाड़ का बोझ अपने ऊपर ढोती हैं। विश्व विख्यात चि‍पको आंदोलन और शराब विरोधी आंदोलनों से उनका आन्दोलनों का इतिहास

इस चुनाव में ईवीएम नहीं मतपत्रों से हुए मतदान पर उठे सवाल

इन दिनों ईवीएम से हुए चुनावों पर सवाल उठाने का देश भर में चलन नज़र आ रहा है, परन्तु उत्तराखंड बार काउंसिल के आज 28 मार्च को 20 सदस्य पदों के लिए मतपत्रों से हुए चुनावों पर भी एक नहीं अनेकों आरोप लगने से मतपत्रों के जरिये होने वाली चुनाव प्रक्रिया पर पूर्व में उठने वाले

प्रधानमंत्री मोदी जी को वोट देने वाले एक मतदाता का खुला ख़त

प्रधानमंत्री जी, मैं आपसे अपनी कोई भी बात कहूँ या सवाल करूँ, उससे पहले स्पष्ट करना चाहता हूँ कि संभवतः इस देश के सबसे आखिरी नागरिकों में शुमार होने के कारण मैं आपसे कुछ भी कहने या पूछने का अधिकारी हूँ ही नहीं। मैं हाथ जोड़कर यह भी साफ कर देना चाहता हूँ कि मेरी

एक दशक के सर्वोच्च स्तर पर नैनी झील, बावजूद ‘रिफ्रेश’ होने पर संशय

-पिछले वर्ष भी नहीं खुल पाये थे झील के गेट, अभी भी 0.35 फिट कम है नैनी झील का जलस्तर नवीन जोशी नैनीताल। किसी भी जल राशि के लिए ‘पानी बदल’ कर ‘रिफ्रेश’ यानी तरोताजा होना जरूरी होता है। मूलतः पूरी तरह बारिश पर निर्भर और वर्ष भर ठहरे रहने वाले पानी वाली नैनी झील

राजुला-मालूशाही और उत्तराखंड की रक्तहीन क्रांति की धरती, कुमाऊं की काशी-बागेश्वर

पौराणिक काल से ऋषि-मुनियों की स्वयं देवाधिदेव महादेव को हिमालय पुत्री पार्वती के साथ धरती पर उतरने के लिए मजबूर करने वाले तप की स्थली बागेश्वर कूर्मांचल-कुमाऊं मंडल का एक प्रमुख धार्मिक एवं पर्यटन स्थल है। नीलेश्वर और भीलेश्वर नाम के दो पर्वतों की उपत्यका में सरयू, गोमती व विलुप्त मानी जाने वाली सरस्वती नदी

\