खुलेगा धरती पर डायनासोरों का राज, उत्तराखंड में…

दुनिया के सबसे विशालकाय जीव माने जाने वाले डायनासोर हमेशा से मानव के लिए उत्सुकता का विषय रहे हैं। इसलिए भी कि जब पृथ्वी से इतने विशाल जीवों का अस्तित्व समाप्त हो गया, तो मानव…

वन्य पशु-पक्षियों का सर्वश्रेष्ठ गंतव्य-नैनीताल, कुमाऊं

नैनीताल जू में जर्मनी, इटली, उजबेकिस्तान से आएंगे हिम तेंदुए -साथ ही दार्जिलिंग से एक नर मारखोर व रेड पांडा भी लाने की चल रही है कोशिश -नस्ल सुधार के लिए ‘ब्लड एक्सचेंज’ यानी ‘रक्त…

नैनीताल में मिले किंग कोबरा के नर-मादा, विश्व…

[caption id="attachment_8827" align="alignnone" width="283"] जॉयविला क्षेत्र में पकड़ में आई मादा किंग कोबरा (14 नवम्बर 2017)[/caption] -सर्पराज के प्राकृतिक आवास स्थल के रूप में स्थापित हो रहा नैनीताल का दावा -पूर्व में विश्व रिकार्ड 22…

एलडीए: काम से अधिक नाकामियों के साथ मिली…

[caption id="attachment_8838" align="alignnone" width="300"] राष्ट्रीय सहारा, 16 नवम्बर 2017[/caption] -1984 में यूपी के तत्कालीन मुख्यमंत्री एनडी तिवारी की पहल पर वृहत्तर नैनीताल विकास प्राधिकरण से हुई थी शुरुआत, 1989 में तिवारी ने ही दिया एनएलआएसएडीए…

एक दशक के सर्वोच्च स्तर पर नैनी झील,…

[caption id="attachment_8394" align="alignnone" width="300"] सितम्बर 2017 के आखिरी सप्ताह में 11.65 फिट के स्तर पर भरा नैनीताल[/caption] -पिछले वर्ष भी नहीं खुल पाये थे झील के गेट, अभी भी 0.35 फिट कम है नैनी झील…

एशिया का पहला जिम कार्बेट राष्ट्रीय उद्यान और…

[caption id="attachment_4061" align="alignnone" width="300"] जिम कॉर्बेट पार्क में हाथियों का झुण्ड[/caption] देश में राष्ट्रीय पशु-बाघों की ताजा गणना के अनुसार बाघों को बचाने के मामले में देश में नंबर-एक घोषित तथा भारत ही नहीं एशिया…

भगवान राम की नगरी के समीप माता सीता…

देवभूमि कुमाऊं-उत्तराखंड में रामायण में सतयुग, द्वापर से लेकर त्रेता युग से जुड़े अनेकों स्थान मिलते हैं। इन्हीं में से एक है त्रेता युग में भगवान राम की धर्मपत्नी माता सीता के निर्वासन काल का आश्रय स्थल…

‘सफाई से पहले दिमाग की सफाई जरूरी’

एक विचार: मैं स्वच्छता के लिये क्या करूंगा.. आप भी बताइयेगा, क्या आप भी कुछ करेंगे.... अधिकतम 150 शब्दों में। स्वच्छता हमेशा स्वयं से, और स्वयं में भी बाहरी तन से पहले मन से शुरू होती…

18 सितम्बर 1880 : नैनीताल वालो जरा आँख…

वह मनहूस दिन….. ....आधिकारिक तौर पर 18 नवम्बर 1841 को नगर में आये एक अंग्रेज पीटर बैरन द्वारा नगर के रूप में बसायी गयी सरोवरनगरी नैनीताल में कम-कम करके भी 1880 तक नगर में उस…

दिल्ली-एनसीआर की धुंध से एक माह पीछे खिसका…

नवीन जोशी, नैनीताल। सामान्यतया पर्वतीय क्षेत्रों में बरसात निपटने के बाद शरद-हेमंत ऋतु के सितम्बर से अच्छी धूप खिलने के साथ नगाधिराज हिमालय के दर्शन होने लगते हैं, और देर से देर पिछले वर्षों में…

बलियानाला में 1898 से है भूस्खलनों का लंबा…

[caption id="attachment_7677" align="alignnone" width="300"] (17 अगस्त 1898 को बलियानाला क्षेत्र में हुए भूस्खलन की दुर्लभ तस्वीर)[/caption] बलियानाला में 1898 से है भूस्खलनों का लंबा इतिहास, 28 ने गंवाई थी जान -1934-35, 1972 व 2004 में…

गौरा-महेश को बेटी-जवांई के रूप में विवाह-बंधन में…

गौरा से यहां की पर्वत पुत्रियों ने बेटी का रिश्ता बना लिया हैं, तो देवों के देव जगत्पिता महादेव का उनसे विवाह कराकर वह उनसे जवांई यानी दामाद का रिश्ता बना लेती हैं। यहां बकायदा…

पंचेश्वर बांध: ‘न्यू इंडिया’ से पहले ही टूट…

-बड़े बांधों की जगह छोटे-छोटे बांधों को बताया जा रहा सुरक्षित व उपयोगी नवीन जोशी, नैनीताल। अंग्रेजी हुकूमत के साथ ही आजादी के बाद भी बांधों को ‘आधुनिक भारत के मंदिर’ कहा गया था। बताया…