किसानों की आय दोगुनी करने को देश के हर जिले में बनेंगी कृषि परिषदें 

Articles Development Information Nainital Personality
आईसीएसए की निदेशक ममता जैन।
  • यूपी के लखीमपुर से हुई है शुरुआत, शीघ्र नैनीताल जनपद के हल्द्वानी में खुल सकती है उत्तराखंड की पहली जिला कृषि परिषद
  • पहले चरण में हर राज्य में एक एवं आगे 3-4 वर्षों में देश के 500 जनपदों में जिला कृषि परिषदें स्थापित करने की है केंद्र सरकार की योजना

नवीन जोशी, नैनीताल। केंद्र सरकार वर्ष 2022 तक देश के किसानों की आय दोगुनी करने के लिए अनेक योजनाएं बना रही है। लेकिन इन योजनाओं का लाभ किसानों को दिलाने के लिए महत्वपूर्ण कड़ी के रूप में देश के हर जिले में महत्वाकांक्षी योजना के तहत डिस्ट्रिक्ट एग्रीकल्चर काउंसिल यानी जिला कृषि परिषद स्थापित करने का खाका बनाया गया है। यह कृषि परिषदें जिलों की निचली इकाइयों में स्थापित होकर किसानों और कृषि से संबंधित कृषि, लघु कृषि, उद्यान, सिंचाई, लघु सिचाई, बैंकों,  मंडी परिषदों आदि विभिन्न विभागों-इकाइयों के साथ मिलकर जिला स्तर पर योजनाओं का लाभ किसानों को पहुंचाने के लिए समन्वित प्रयास करेंगी। यह परिषदें सीधे केंद्रीय कृषि मंत्रालय से जुड़ी होंगी, लिहाजा इनके जरिए किसान सरकारों की विभिन्न प्रकार की योजनाओं की जानकारी और लाभ प्राप्त करने के साथ ही अपनी समस्याएं, अधिकारियों-विभागों से सहयोग न मिलने जैसी शिकायतें भी मंत्रालय तक पहुंचा सकेंगे।

राष्ट्रीय सहारा, 5 जनवरी 2018

देश में कृषि, खाद्य एवं कृषि उद्योग से संबंधित नीतिगत मुद्दों पर कार्य करने वाले सर्वोच्च संस्थान भारतीय खाद्य एवं कृषि परिषद यानी इंडियन काउंसिल फॉर फूड एंड एग्रीकल्चर (आईसीएफए) की निदेशक ममता जैन ने मंगलवार को एक्सक्लूसिव बातचीत में यह जानकारी दी। बताया कि देश की पहली जिला कृषि परिषद यूपी के लखीमपुर में शुरू की गयी है। इसी तरह पहले चरण में देश के हर राज्य में एक-एक और अगले 3-4 वर्षों में देश के 500 जनपदों और आगे हर जिले में जिला कृषि परिषदें स्थापित करने की केंद्र सरकार की योजना है। उत्तराखंड की पहली जिला कृषि परिषद जल्द नैनीताल जनपद के हल्द्वानी में स्थापित करने की योजना है।

किसान बनेंगे ब्रांड एंबेसडर
नैनीताल। आईसीएफए की निदेशक ममता जैन ने बताया कि जिला कार्य परिषदों में जिला स्तर पर किसानों के उत्थान, उन्हें अपने खेतों में क्या उगाकर और साथ में क्या करके आय बढ़ा सकते हैं, इस बारे में योजना बनाकर राय दी जाएगी। साथ ही जिलों में बेहतर उत्पादन के उदाहरण प्रस्तुत करने वाले किसानों को अन्य किसानों के समक्ष ‘ब्रांड एंबेसडर’ और ‘रोल मॉडल’ के रूप में पेश किया जाएगा, ताकि अन्य किसान भी उनकी तरह कृषि उत्पादन करने की प्रेरणा लें। साथ ही एक किसान परंपरागत खेती के इतर किस तरह मौसमी फल-सब्जियों, बकरी, भेड़ या मतस्य पालन आदि की समग्र खेती (इंटीग्रेटेड एग्रीकल्चर) कर पाएं, इस बारे में भी किसानों को बताया जाएगा।

उत्तराखंड के प्रगतिशील किसानों के लिए पुरस्कार व सम्मेलन जल्द
नैनीताल। बीते दिसंबर माह में नई दिल्ली में आयोजित हुए देश के पहले अखिल भारतीय प्रगतिशील कृषक सम्मेलन की तर्ज पर शीघ्र उत्तराखंड में भी इसी तरह राज्य स्तरीय प्रगतिशील कृषक सम्मेलन आयोजित किया जा रहा है। इस सम्मेलन की संभावनाएं तलाशने जनपद में पहुंची आईसीएफए की निदेशक ममता जैन ने बताया कि इसे देहरादून अथवा हल्द्वानी में आयोजित करने के बारे में संभावनाएं तलाशी जा रही हैं। इस सम्मेलन में 15-16 श्रेणियों में राज्य के प्रगतिशील किसानों को पुरस्कार भी दिए जाएंगे। उल्लेखनीय है देश के पहले अखिल भारतीय प्रगतिशील कृषक सम्मेलन में नैनीताल जनपद के नरेंद्र सिंह मेहरा व अनिल पांडे तथा अल्मोड़ा की प्रेम रौतेला ने प्रतिभाग किया था।

आया मोदी जैसा गेहूं ‘नरेंद्र-09’, देता है दो-तीन गुना अधिक उत्पादन

राष्ट्रीय सहारा, देहरादून संस्करण, 4 सितम्बर 2017, पेज-10

-नैनीताल जनपद के गौलापार खेड़ा निवासी प्रगतिशील किसान नरेंद्र मेहरा ने की खोज, पेटेंट कराने की है तैयारी
नवीन जोशी, नैनीताल। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के देश के किसानों व खेती को बढ़ावा देने के आह्वान के बीच उन्हीं के नाम पर ‘नरेंद्र-09’ नाम की गेहूं की एक ऐसी प्रजाति प्रकाश में आयी है, जो मोदी की तरह ही (जैसे मोदी नवरात्र में ब्रत करने के बावजूद दिन में 20 घंटे तक कार्य करते हैं) दो से तीन गुना अधिक उत्पादकता देती है। हालांकि गेहूं की इस प्रजाति के नाम और नरेंद्र मोदी में कोई संबंध नहीं है, लेकिन देश में ‘नमो-नमो’ की गूंज के बीच यह संयोग ही है कि इस प्रजाति को मोदी के ही हम नाम नरेंद्र मेहरा (आप चाहें तो उन्हें ‘नमे’ कह लें) ने खोजा है। और यह भी संयोग है कि नरेंद्र मेहरा करीब तीन दशक से यानी नरेंद्र मोदी की ही पार्टी भाजपा से जुड़े हैं, अलबत्ता उनकी इस खोज व नाम का पार्टी से कोई संबंध नहीं है। गेहूं की इस प्रजाति का नाम नरेंद्र-09 केवल इसलिये है कि इसे नरेंद्र मेहरा ने वर्ष 2009 में खोजा है।

अपने कार्य को गंभीरता व पूरी तन्मयता किसी को भी बड़ी उपलब्धि दिला सकती है। खेती-किसानी करते हुए अपने गेहूं के खेत में अन्य पौधों के साथ एक असामान्य रूप से अधिक विकसित हुए पौधे ने जनपद के गौलापार देवला मल्ला निवासी किसान नरेंद्र मेहरा को एक बड़े मुकाम तक पहुंचा दिया है। नरेंद्र अब अपनी विकसित की गयी गेहूं की प्रजाति ‘नरेंद्र-09’ को पेटेंट कराने जा रहे हैं। जबकि उनकी प्रजाति को ‘फार्मर्स वैराइटी’ यानी किसानों द्वारा तैयार प्रजाति के तहत पंजीकरण की प्रक्रिया अंतिम चरण में है। यदि उनकी यह खोज सही तरह से देश में प्रसारित होती है जो इससे बिना अतिरिक्त रसायनिक खाद व अन्य प्रयासों के लगातार घटती खेती की जमीनों व किसानों में खेती के प्रति लगातार घटते रुझान, खेती में नुकसान व लगातार आ रही किसानों की आत्महत्याओं की गंभीर चुनौतियों के दौर में खेती-किसानी को बेहतर उत्पादन के साथ नवजीवन मिल सकता है।

राष्ट्रीय सहारा, 18 दिसंबर 2017

नैनीताल जनपद के भूगोल में परास्नातक एवं पर्यटन में डिप्लोमाधारी प्रगतिशील किसान नरेंद्र मेहरा की इस नयी खोज की कहानी वर्ष 2009 से प्रारंभ हुई। एक दिन वे अपने आरआर-21 प्रजाति के गेहूं के खेत का निरीक्षण कर रहे थे, तभी उनकी नजर एक अधिक विकसित हुए पौधे पर पड़ी, जिस पर उन्होंने पहचान चिन्ह लगा दिया, और आगे इसी पौधे से निकले बीजों को अगले वर्षों में अलग से उगाकर वर्ष 2013 तक इस एक पौधे के बीज से ही 80 किग्रा बीज उत्पन्न कर लिया। 2013 से ही उन्होंने अपनी इस खोज को केवल स्वयं के खेतों तक सीमित करने के बजाय आस-पड़ोस के आधा दर्जन अन्य किसानों को भी उगाने को दिया, साथ ही इसके वैज्ञानिक परीक्षण के लिये भी पंतनगर विवि से प्रयास शुरू किये, और अपनी प्रजाति को अपने नाम व इसे खोजे जाने के वर्ष के साथ नरेंद्र-09 नाम दिया। नरेंद्र ने बताया कि अब उनकी प्रजाति की ‘फार्मर्स वैराइटी’ के रूप में पंजीकरण की प्रक्रिया अंतिम चरण में है। साथ ही वे इसे पेटेंट कराने की भी तैयारी में हैं। इसके अलावा वे इस प्रजाति को पूरी तरह जैविक तरीके से उगाकर इसका जैविक उत्पाद के रूप में पंजीकरण कराने के साथ ही इसकी गुणवत्ता में और अधिक सुधार करने के लिये भी प्रयासरत हैं। आगे वे सरकार से इसके गुणों का अन्य प्रजातियों से वैज्ञानिक तरीके से तुलनात्मक अध्ययन व जेनेटिक परीक्षण कराने के लिये मांग कर रहे हैं कि उनकी प्रजाति को प्रदेश के सभी जिलों में निःशुल्क तरीके से उगाकर परीक्षण करा लिये जाएं, ताकि प्रदेश के अधिक किसानों को इसका लाभ मिल पाए। उन्होंने बताया कि नरेंद्र-09 के लिये बिजाई का समय 20 नवंबर से 5 दिसंबर तक है, और इसकी फसल अप्रैल माह में अन्य प्रजातियों के साथ ही पकती है। अपनी इस उपलब्धि के लिये वे नैनीताल के जिला कृषि अधिकारी से वर्ष 2015-16 में ‘किसान श्री’ तथा मंडी समिति से ‘स्वतंत्रता दिवस कृषि सम्मान’ प्राप्त कर चुके हैं।

नरेंद्र-09 प्रजाति के गेहूं का अन्य प्रजातियों से तुलनात्मक विवरण

नैनीताल। प्रगतिशील किसान नरेंद्र मेहरा के अनुसार प्रदेश के भाबर क्षेत्र में जहां अन्य प्रजातियों के गेहूं के एक बीज से उगने वाले एक पौधे में जहां 3 से 8 तक कल्ले निकलते हैं, और हर कल्ले में एक के हिसाब से इतनी ही बालियां लगती हैं, वहीं नरेंद्र-09 में 40 कल्ले तक आते हैं, और हर कल्ले में 93 से 95 दाने तक आते हैं। जबकि अन्य प्रजातियों की एक बाली में केवल 55 से 60 दाने ही लगते हैं। इस प्रकार जहां एक एकड़ में अन्य प्रजातियों के गेहूं की उपज 12 से 16 कुंतल प्रति एकड तक होती है़, वहीं नरेंद्र-09 की पैदावार 18 से 26 प्रति एकड यानी करीब डेढ़़ से दो गुना तक होती है। जबकि जनपद के पर्वतीय क्षेत्र में किये गये एक प्रयोग के तहत नरेंद्र-09 के एक मुट्ठी बीज से हर पौधे में 19 से 22 कल्ले तक निकले और अन्य प्रजातियों के 1 मुट्ठी बीज से 3 से 3.5 नाली उत्पादन के मुकाबले 9 नाली यानी करीब तीन गुना तक गेहूं उत्पन्न हुआ है। इसके अलावा भी जहां कृषि वैज्ञानिकों के अनुसार भाबर क्षेत्र में एक एकड़ में अल्स प्रजातियों का 40 किग्रा बीज बोने की सलाह दी जाती है, वहीं नरेंद्र-09 को 35 किग्रा बोने से ही काम चल जाता है। इसके अलावा एक पौधे में अधिक कल्ले होने की वजह से इसका पौधा अन्य प्रजातियों के मुकाबले अधिक मजबूत भी होता है, और आंधी-तूफान आने पर भी गिरता नहीं है। वहीं इसका पौधा अन्य प्रजातियों के पौधों के मुकाबले अधिक पुष्ट व मजबूत भी होता है, जिस कारण अधिक पकने के बावजूद इसकी बालियों से गेहूं खेत में गिरते नहीं हैं। इसका पौधा अधिक लंबा होता है, जिस कारण इससे बनने वाला भूसा भी 20 फीसद अधिक व अच्छा होता है। अधिक मात्रा में और जानवरों के लिये अधिक पौष्टिक होता है। स्वाद में भी इसके आटे की रोटियां अधिक स्वादिष्ट बताई गयी हैं।

पंतनगर विवि में शुक्रवार को जिले के प्रगतिशील किसान नरेंद्र मेहरा को सम्मानित करते सीएम त्रिवेंद्र रावत।
‘नरेंद्र 09’ विकसित करने वाले किसान नरेंद्र मेहरा को सीएम ने किया सम्मानित

नैनीताल। दो से तीन गुना तक पैदावार देने वाली गेहूं की नई किस्म ‘नरेंद्र 09’ विकसित करने वाले जनपद के प्रगतिशील किसान नरेंद्र मेहरा को शुक्रवार को प्रदेश के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने गोविंद बल्लभ पंत कृषि एवं प्रौद्योगिकी विश्वविश्वविद्यालय, पंतनगर में आयोजित एक कार्यक्रम के दौरान इस उपलब्धि के लिये सम्मानित किया गया। उन्होंने कहा कि पंतनगर विवि इस संबंध में मेहरा की उपलब्धि को अन्य किसानों तक पहुंचाने में मदद करे। इस मौके पर पंतनगर विवि के कुलपति प्रो. ए के मिश्रा, विधायक राजेश शुक्ला व राजकुमार ठुकराल, तथा प्रसार निदेशक डा. वाईपीएस डबास आदि भी मौजूद थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *