उत्तराखंड की बेटी बनी ‘मिस इंडिया खादी’

News Personality

नैनीताल। बीता वर्ष-2017 अपनी आखिरी शाम उत्तराखंड की एक बेटी के ‘मिस इंडिया खादी-2017’ बनने की खबर लेकर आया है। मूलतः अल्मोड़ा जिले के भिकियासैंण के ग्राम बघाड़ की तथा नैनीताल के राजकीय पॉलीटेक्निक क्षेत्र में रहने वाले राजकीय वाहन चालक हीरा सिंह रावत व गृहणी दीपाली रावत की होनहार बेटी खुशबू रावत ने बीते वर्ष के आखिरी दिन दिल्ली के ताज होटल में केंद्रीय खादी एवं ग्रामोद्योग बोर्ड द्वारा खादी के वस्त्रों को आगे बढ़ाने के उद्देश्य से आयोजित प्रतियोगिता को जीतकर ‘मिस इंडिया खादी’ का तमगा हासिल किया। वर्तमान में निफ्ट यानी नॉदर्न इंडिया इंस्टीट्यूट ऑफ फैशन टेक्नोलॉजी चंडीगढ़ की द्वितीय सेमेस्टर की छात्रा खुशबू इससे पूर्व ‘मिस हरियाणा-खादी’ भी रह चुकी हैं। बताया गया है कि इस प्रतियोगिता के दिल्ली में आयोजित हुए ऑडिशन में देश के करीब 200 विश्वविद्यालयों और शैक्षणिक संस्थान की करीब 50 हजार छात्राओं ने हिस्सा लिया था। इसका ऑडिशन दिल्ली में कराया गया था। इस प्रतियोगित में खूशबू को हरियाणा का प्रतिनिधित्व करते हुए पहला जबकि मोहाली चंडीगढ़ की घुरलीन मधोक को दूसरा स्थान मिला है। उन्होंने 12वीं कक्षा नैनीताल के ही मोहन लाल साह बाल विद्या मंदिर से प्रथम श्रेणी में उत्तीर्ण की थी।

ज्योलीकोट के धवल शेखर जोशी बने आईटीबीपी में अधिकारी
धवल जोशी को आईटीबीपी में सहायक सेनानायक पद के लिए तैयार करते माता-पिता।

नैनीताल। मुख्यालय के निकटवर्ती ज्योलीकोट के ग्राम भल्यूटी निवासी रमेश चंद्र जोशी के पुत्र धवल शेखर जोशी आईटीबीपी में सहायक सेनानायक के पद पर नियुक्त हो गये हैं। गत दिवस आयोजित हुई आईटीबीपी की पासिंग आउट परेड में उन्हें सहायक सेनानायक पद प्रदान किया गया। धवल के बड़े भाई रजत जोशी भी सेना में मेजर पद पर हैं, जबकि पिता उत्तराखंड पुलिस में उपाधीक्षक पद से सेवानिवृत्त एवं माता ललिता जोशी गृहणी हैं। उनकी प्राथमिक शिक्षा बरेली से हुई है, जबकि वे कक्षा छह से 12 तक सैनिक स्कूल घोड़ाखाल में पढ़े हैं। जिसके बाद उन्होंने एमेटी यूनिवर्सिटी से बीटेक किया। उनकी उपलब्धि पर क्षेत्रीय जनप्रतिनिधियों एवं गणमान्य लोगों ने हर्ष जताया है।

इतिहास रच, वीरों की भूमि-उत्तराखंड का लाल बना एनडीए का टॉपर

शिवांश जोशी
सेना में भर्ती होकर देश सेवा करने के जुनून ने बनाया शिवांश को एनडीए का टाॅपर

रवीन्द्र देवलियाल, नैनीताल, 26 नवम्बर। सेना में भर्ती होकर देश सेवा करने का जुनून उत्तराखंड के एक होनहार छात्र पर ऐसा छाया कि उसने आज के दौर में प्रचलित आईआईटी व एनआईटी जैसे विकल्पों को छोड़कर, एनडीए यानी राष्ट्रीय सुरक्षा अकादमी की प्रवेश परीक्षा दी और इस सर्वोच्च परीक्षा में देश में सर्वोच्च स्थान प्राप्त कर अपना, अपने परिवार, शहर व प्रदेश का नाम रोशन करते हुए इतिहास रच दिया है। दिलचस्प बात यह कि छात्र शिवांश जोशी देश के पहले सेनाध्यक्ष जनरल सैम मानेकशॉ,  पहले परमवीर चक्र विजेता मेजर सोमनाथ शर्मा, पूर्व सेना प्रमुख जनरल बीसी जोशी, पूर्व नौसेना प्रमुख एडमिरल डीके जोशी व वर्तमान सेना प्रमुख जनरल बिपिन रावत जैसे वीरों की भूमि कहे जाने वाले उत्तराखंड के एक छोटे से कस्बे रामनगर का रहने वाला है। शिवांश की इस उपलब्धि से सैनिक पृष्ठभूमि वाला पूरा उत्तराखंड झूम उठा और गौरवान्वित महसूस कर रहा है। उम्मीद करनी होगी कि शिवांश सत्य एवेम सुन्दर के सहगामी सृष्टि के संहारक ‘शिव’ के ‘अंश’ के रूप में देश की सुरक्षा के आगे मिलने वाले दायित्व में भी अपने नाम को साकार करेगा।

शिवांश जोशी (17) कार्बेट सिटी के नाम से प्रसिद्ध रामनगर के भवानीगंज स्थित पंचवटी कालोनी का रहने वाला है। शिवांश एक सामान्य परिवार से संबंध रखता है। उसके पिता सुभाष जोशी भारतीय जीवन बीमा निगम में सहायक प्रशासनिक अधिकारी, और मां तनूजा जोशी अध्यापिका हैं। शिवांश जोशी ने गत 24 अप्रैल को संपन्न एनडीए की प्रवेश परीक्षा में हिस्सा लिया था। आज घोषित परिणाम में शिवांश ने 97 प्रतिशत अंक हासिल कर देश भर के 371 अभ्यर्थियों में प्रथम स्थान हासिल किया है।

शिवांश ने इसी साल काशीपुर के लिटिल स्काॅलर स्कूल से 12वीं की परीक्षा अच्छे अंकों से उत्तीर्ण की है। शिवांश की इस उपलब्धि पर परिवारजन अत्यधिक प्रसन्न महसूस कर रहे हैं। पिता सुभाष जोशी ने बताया कि शिवांश को सेना में अफसर बनकर देश सेवा करने का बड़ा शौक है, और उसी जुनून से उसने यह स्थान हासिल किया है। मृदुभाषी शिवांश अपनी इस उपलब्धि का श्रेय अपने माता पिता और गुरूजनों को देता है। शिवांश की इस उपलब्धि पर उत्तराखंड के लोगों खासकर सैनिकों व उनके परिवारजन गौरवान्वित महसूस कर रहे हैं।

एनडीए प्रवेश परीक्षा के लिए शिवांश जोशी को मुख्यमंत्री ने दी बधाई

एनडीए प्रवेश परीक्षा में देशभर में टाॅप करने पर मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने शिवांश जोशी एवं उसके परिवार को बधाई एवं शुभकामनाएँ दी हैं। उन्होंने शिवांश जोशी के उज्जवल भविष्य की कामना करते हुए कहा कि शिवांश ने अपनी लगन और दृढ़ इच्छाशक्ति से यह सफलता हासिल की है। इससे अन्य युवाओं को भी प्रेरणा मिलेगी मुख्यमंत्री ने कहा कि उत्तराखण्ड के लोगों में देशप्रेम का असीमित जज्बा है। उत्तराखण्ड ने ऐसे बहुत से वीर सपूत दिये हैं जो देश की सुरक्षा से जुड़ी अहम जिम्मेदारियाँ निभा रहे हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *