/अब सत्ता ‘ज़हर’ नहीं रही मि. कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ?

अब सत्ता ‘ज़हर’ नहीं रही मि. कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ?

Rs 3/kg: Rahul Gandhi Lands in a Potatoe Soup
आखिर GDP का विरोध करते, GDP को ‘गब्बर सिंह टैक्स’ बताने वाले राहुल गांधी पहले न केवल स्वयं ‘GDP के नए अवतार’ – ‘जनेऊ धारी हिन्दू’ बने, बल्कि उनकी पार्टी की ओर से यह साबित करने के प्रयास चल रहे हैं कि वे और उनकी पार्टी बड़ी ‘प्रो हिंदूवादी’ पार्टी है। अब उनमें उन हिन्दू मंदिरों में अधिक से अधिक जाने की होड़ दिख रही है, जहाँ बकौल उनके लोग ‘लड़कियां छेड़ने’ जाते थे।
अब राहुल “सत्ता ज़हर है” कहते हुए कांग्रेस अध्यक्ष बन गए हैं। इस तरह सत्ता से दूर रहने की बात करते-करते हुए वे पार्टी के अध्यक्ष बनने के साथ बहुमत मिलने पर ‘सत्ता प्रमुख’ बनने की राह पर भी चल पड़े हैं। और इस तरह वे सत्ता रूपी “ज़हर” की प्राप्ति के लिए भी तमाम प्रयास करते नजर आ रहे हैं।
पेश है राहुल गांधी के उपाध्यक्ष बनने के दौरान का एक पुराना विश्लेषण, जो आज की परिस्थितियों में भी सटीक बैठता है :
राहुल की ‘साफगोई’ के मायने
जनवरी 2013 में जयपुर में कांग्रेस पार्टी की चिंतन बैठक में चाहे जो और जितना नाटकीय तरीके से हुआ हो, लेकिन काफी कुछ हुआ वही, जिसकी उम्मीद कमोबेश हर कांग्रेसी कर रहा था, और बाकी देशवासियों को भी उसका अंदाजा था। यानी राहुल गांधी को पार्टी में बड़ी जिम्मेदारी मिलना, और उन्हें उपाध्यक्ष बना भी दिया गया। चिंतन शिविर से यही सबसे बड़ी खबर आई, यानी चिंतिन शिविर आयोजित ही इस लिए किया गया था कि इसके बाद राहुल को पार्टी का नंबर दो यानी सोनिया गांधी का उत्तराधिकारी घोषित कर दिया जाए।
राहुल को उपाध्यक्ष घोषित कर दिया गया, किंतु यह भी बहुत बड़ी घटना नहीं क्योंकि वह पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव रहते हुए भी गांधी-नेहरू परिवार से होने और सोनिया गांधी के पुत्र होने के नाते पार्टी के नंबर दो तथा सोनिया के निर्विवाद तौर पर उत्तराधिकारी ही थे। लेकिन इससे बड़ी बात यह है कि नई जिम्मेदारी देने के साथ यह संदेश साफ कर देने की कोशिश की गई है कि वह आगामी लोक सभा चुनावों में पार्टी के प्रधानमंत्री पद के दावेदार होंगे।
गौर कीजिए, राहुल और सोनिया गांधी दोनों इस बात को मानते हैं, इसलिए ‘पार्टी’ की एक बड़ी जिम्मेदारी मिलने पर दोनों के मन में पार्टी से पहले ‘सत्ता’ का खयाल आता है। यह खयाल आते ही सोनिया बेहद डर जाती हैं। वह रात्रि में ही राहुल के कक्ष में जाती हैं, और पुत्र को गले लगाकर रोते हुए याद दिलाती है, “सत्ता जहर है।” इस जहर ने उनकी ‘आइरन लेडी’ कही जाने वाली दादी और मजबूत पिता को उनसे छीन लिया था। पुत्र को भी डर सताता है, उनके साथ बैडमिंटन खेलने वाले दो पुलिस कर्मी कैसे गोलियों से भूनकर उनकी दादी की हत्या कर देते हैं। यहां किस पर विश्वास किया जाए, किस पर नहीं ! कहीं सत्ता उन्हें भी…..! भगवान करे ऐसा कभी ना हो।
बहरहाल, टीवी पर आने वाले एक विज्ञापन की तर्ज पर डर सभी को लगता है, गला सभी का सूखता है। मां-पुत्र भी इसके अपवाद नहीं हो सकते। दोनों बेहद डरे हुए हैं। लेकिन उनके समक्ष क्या मजबूरी है सत्ता रूपी जहर को पीने की। यह जहर उनके परिवार को इतने बड़े घाव पहले ही दे चुका है, तो उसे जानते-बूझते फिर से क्यों गटका जाए। किसी और के लिए हो सकता है, पर गांधी-नेहरू परिवार के लिए तो सत्ता कभी ‘शादी के लड्डू’ की तरह अनजानी वस्तु भी नहीं हो सकती कि उसे बिना खाए पछताने से बेहतर एक बार खा ही लिया जाए। उनके लिए यह स्वाद कोई नया नही।
फिर क्या मजबूरी है कि राहुल अपने इस डर को पार्टी की भरी चिंतन सभा में उजागर कर देते हैं। क्या केवल ‘साफगोई’ का तमगा हासिल करने के लिए। और यह भी ‘साफ’ किए बगैर कि आखिर उनके समक्ष इतने बड़े डर के बावजूद विषपान करने की इतनी बड़ी मजबूरी क्या है। क्या वह पार्टी की चिंतन बैठक में देशवासियों के दुःखों पर चिंता कर रहे हैं, और देशवासियों के दुःख उनसे देखे नहीं जा रहे और वह उनके दुःखों को दूर करने के लिए उनके हिस्से के ‘विष’ को पीकर ‘शिव’ बनना चाहते हैं। ऐसा ही मौका सोनिया के पास भी तो आया था, और उन्होंने यह विष क्या पी न लिया होता, यदि उन पर ‘विदेशी’ होने का दाग न लगता ?
राहुल जानते हैं, वह नेहरू-गांधी परिवार के चश्मो-चिराग हैं, जिसका नाम अपने नाम से जोड़ देने भर से उन्हें बिना किसी अन्य विशेषता के मां से उत्तराधिकार में कांग्रेस के नंबर दो की कुर्सी के साथ ही आगे पार्टी को सत्ता मिलने पर देश की नंबर एक की कुर्सी भी कमोबेस बिना प्रयास के मिलनी तय है। वह देश की सत्ता के इतने बड़े नाम हैं कि चाहें तो विपक्षी पार्टियों की सत्ता रहते भी लोकहित के जो मर्जी कार्य करवा सकते हैं। फिर क्या मजबूरी है कि वह सत्ता को जहर होने के बावजूद भी पीना ही चाहते हैं ?
यहां राहुल के एक वक्तव्य से दो चीजें साफ़ हो जाती हैं। एक, देश का भावी प्रधानमंत्री होने के बावजूद वह इस कथित ‘साफगोई’ के फेर में स्वयं के डर के साथ अपनी कमजोरी भी प्रकट कर देते हैं। दूसरे, ‘पालने’ से ही सत्ता शीर्ष पर होने के बावजूद स्वयं का जहर जैसी सत्ता से न छूट पा रहा मोह भी उनकी इस ‘साफगोई’ से उजागर हो जाता है।
राहुल की यह ‘साफगोई’ अनायास नहीं है, वरन सोची समझी रणनीति के तहत हैं। वह अभी भी अपना ‘चेहरा’ विकसित करने के दौर में ही हैं। कभी दाड़ी वाले बेफुरसत युवा, कभी यूपी की चुनावी सभा में पर्चा फाड़ते एंग्री यंग मैन तो कभी गरीब की झोपड़ी में रात बिताते गरीब-गुरबा के मसीहा, और अब साफगोई दिखाते, देश के दिलों को छूते नेता। उनकी पार्टी यूपी, गुजरात जैसे राज्य हारते जा रही है। उत्तर पूर्व के तीन राज्यों में भी उनकी पार्टी के लिए जीत की कम ही संभावनाएं हैं। 2014 भागा हुआ आ रहा है। जनता भ्रष्टाचार, महंगाई, सब्सिडी वापस लिए जाने, डीजल-पेट्रोल को तेल कंपनियों के हाथ में दे दिए जाने और जन लोकपाल, बलात्कार पर कड़े कानून बनाने का शोर मचाए हुए है। वह क्या करें, कौन सा रूप धरें। कौन सा चमत्कार करें कि इस सबके बावजूद सत्ता वापस कदमों में आ जाए। यह बड़ी चिंता है उनकी भी, और कांग्रेस के नेताओं की भी, जिन्हें पता है कि यही नेहरू-गांधी का नाम है जिसके बल पर वह जनता को तमाम अन्य मुद्दे भुलाकर सत्ता हासिल कर सकते हैं। और मां सोनिया की भी, बेटे के लिए दुल्हन भी तलाशें तो पूछते हैं, लड़का करता क्या है। सचमुच बड़ी मजबूरी है।
लेकिन राहुल को घबराने या जल्दबाजी की जरूरत नहीं, उन्हें समझना होगा, वह अकेले दौड़ने के बाद भी पार्टी के ‘नंबर दो’ बने हैं। ऐसे ही जब चाहें नंबर -1 भी बन जायेंगे। इस पद के लिए उनके अलावा कोई और दूसरा प्रत्याशी नहीं है। वह कभी देश के प्रधानमंत्री भी बनेंगे तो ऐसी ही स्थिति में, जहां कोई दूसरा उनका प्रतिद्वंद्वी नहीं होगा या ऐसी स्थितियां बना दी जाएंगी कि कोई दूसरा उनके बराबर में खड़ा ही नहीं हो सकता। उन्हें यह प्रमोशन तब मिला है, जबकि उनके नेतृत्व में लड़े राज्यों में भी कांग्रेस लगातार हारती रही है। उनका ‘नेता बनो या नेता चुनो’ का मॉडल युवा कांग्रेस में भी फेल हो चुका है। वह न पार्टी की युवा ब्रिगेड को सुधार पाए हैं, और न ही अपनी पार्टी को अपने दम पर किसी राज्य में ही जीत दिला पाए हैं।
बावजूद वह जानते हैं, कांग्रेस पार्टी में सोनिया गांधी के बाद एक वे ही हैं, जिनकी छांव तले कांग्रेसी एक छत के तले खड़े हो सकते हैं। राहुल भले कहें कि उन्हें नहीं पता कि कांग्रेस में आज के कारपोरेट प्रबंधन के दौर में भी (कमोबेस देश की तरह ही) कोई सिस्टम ही नहीं हैं, बावजूद (देश की तरह भगवान भरोसे नहीं) विपक्षी दलों की राजनीतिक अपरिपक्वता और राजनीतिक दांवपेंच में कहीं न ठहरने जैसे अनेक कारणों से वह चुनाव जीत ही जाते हैं।
तो क्या, यह जल्दबाजी, यह विषपान की मजबूरी इसलिए है कि उन्हें लगने लगा है, गांधी-नेहरू जाति नाम भले कांग्रेस पार्टी में अब भी चलता हो पर देश में यह तिलिस्म लगातार टूटता जा रहा है। युवा कांग्रेस के साथ ही यूपी में ‘बदलाव’ की कोशिश कर वह थक हार चुके हैं। उनके हाथों में युवा कांग्रेस की कमान थी। उन्होंने वहां जमीनी स्तर से ‘नेता बनो या नेता चुनो’ का नारा दिया, लेकिन वह नारा भी नहीं चल पाया। कमोबेश सभी जगह वही युवा आगे आ पाए, जिनके पिता या गुट के नेता मुख्य पार्टी में बड़े ओहदे पर थे। जो भी जीता, उसने नीचे से लेकर ऊपर तक कार्यकर्ताओं को मैनेज किया। अपने सदस्य बनाए, फिर अपने लोगों को जितवाया और आखिर में अपने पक्ष में लॉबिंग की। लेकिन राहुल की सोच के मुताबिक ऐसा कुछ नहीं हुआ कि अनजान चेहरे युकां के प्रदेश अध्यक्ष बन गए।
तो क्या राहुल अपनी इस साफगोई से मात्र पार्टी जनों को भावनात्मक रूप से जोड़े रखने का ही प्रयास नहीं कर रहे हैं। इसके साथ ही कहीं वह कार्यकर्ताओं को स्वयं शीर्ष पर जगह बनाने के बाद परोक्ष तौर पर चेतावनी तो नहीं दे रहे कि यह बहुत खतरनाक जगह है। यहां आने की भी न सोचें। हम बहुत बड़ी कुरबानी देने वाले लोग हैं, इसलिए यहां हैं।
इससे बेहतर क्या यह न होता कि वह अपना डर दिखाने के बजाए देश की बड़ी समस्याओं, भ्रष्टाचार, महंगाई, सब्सिडी को खत्म करने, जन लोकपाल, पदोन्नति में आरक्षण जैसे विषयों पर बोलने का साहस दिखाते। देश की जनता की नब्ज, उसकी समस्याओं को समझते, और अपनी युवा ऊर्जा का इस्तेमाल पर उनका स्थाई समाधान तलाशते।
राहुल को जानना होगा उन्हें प्रधानमंत्री बनना है तो उन्हें केवल कांग्रेस पार्टी का नहीं पूरे देश का नेता बनना होगा। और ऐसा केवल भावनात्मक तरीके के बजाए कुछ करके बेहतर किया सकता है। उन्हें इस पद पर आरूढ़ होने से पूर्व कुछ और समय लेना होगा। प्रधानमंत्री पद पर आसीन होने की जल्दबाजी उनके कॅरियर पर भी भारी पड़ सकती है। इस पद के लिए स्वयं को तैयार भी करना होगा। उन्हें स्वयं में गंभीरता लानी होगी। केवल कांग्रेस के गैर गांधी प्रधानमंत्रियों की तरह ‘मौनी बाबा’ बनने अथवा अपने पिता के ‘हमने देखा है, हम देखेंगे’ की तरह ही ऐसा या वैसा होना चाहिए के बजाय कुछ करके दिखाने का साहस और होंसला स्वयं में विकसित करना होगा। अभी वह युवा हैं, उनकी उम्र भागी नहीं जा रही। निस्संदेह उन्हें एक न एक दिन देश का प्रधानमंत्री बनना है।
इस आलेख पर कुछ प्रतिक्रियाएं :
  1. 2004 में सोनिया ने कहा था की अन्तरात्मा की आवाज पर पीएम नहीं बनीं। बाद में पता चला की वो बनने तो गयीं थीं पर भारतीय संविधान ने रोक लगा दी।

    अब राहुल कागज पर पढ़कर अपनी माँ के आँसू और दर्द बयाँ कर रहे हैं। ‘सत्ता जहर है’ क्योंकि राहुल और पीएम की कुर्सी के बीच भी संविधान खड़ा हो गया है शायद!

    सही कहा… बल्कि राहुल को पता है कि कांग्रेसी गांधी परिवार के नाम पर ही थोडा-बहुत एकजुट और वोट खरीदने/माँगने लायक हो पाते हैं…. यह कांग्रेस और राहुल दोनों की मजबूरी है.

     3. Anonymous, February 11, 2013 at 2:24 AM

    जोशी जी बहुत बढिया विश्लेषन किया है ! लेकिन सत्ता का जहर पीने के पीछे एक ही कारण दिखता है लालच ! एसा लालच जो स्वर्ग मे देवराज इन्द्र को भी शायद नसीब ना हो ? सोनिया जी और राहुल के साथ साथ कॉंग्रेसी जनो के राष्‍ट्रीय दामाद और उनके बच्चों की देख रेख मे 121 करोड़ लोगों का परधानमंत्री इतनी बड़ी हुई उम्र मे सेवा कर रहा है 24 घंटे नतमस्तक हो हाजिर रहता है केंदिय मंत्री जिनके प्राइवेट नौकर तुल्य हों ! चंदे की ऊगाही के पैसों और भ्रष्ट्राचार मे घूस के तहत अरबो रुपये की कमाई और उसके ब्याज से ही 400 करोड़ का उड़नखटोला जिसको दिया जाता हो ! यदि कोई युवक प्रश्न पूछने के लिये राहुल से मिलने के लिये हेलीपेड पर जाता हो तो खानदानी सेवक और मंत्री पोस्ट पर बैठे जितेन प्रसाद और प्रमोद तिवारी सरीखे लोग युवक को केमेरे के सामने लात घूंसे बरसाते हों सुरक्षा की दुहाई देके , आखिर सत्ता के इस जहर को जहर के बजाय अमृत कहना क्या ऊचित नही होगा ? शायद कहीं नौकरों को भान ना हो जाये इसलिये सोनिया ने उसे सत्ता का अमृत कहने के बजाय जहर कह दिया ! और रही बात अमृत से मरने की तो इसमे कौन सी बड़ी बात है मरना तो एक दिन सभी को है !!! बहरहाल कई जन्म के पूनियों का फल है सोनिया जी और उनके रिश्ते नातेदारों का उसे तो वे भोगेंगे ही और जन्म जन्मान्तर से जिन्होने सोनिया परिवार के चरणों मे प्रीति रखी है अगर वो इतनी प्रीति अपने कर्म से रखते या कह लो भगवान से रखते तो क्या पता इनका उद्धार भी हो जाता ! पर शायद असली पापी तो जनता है जो कभी अपने को सामान्य और कभी आम कहती है ! और ईर्ष्या और जलन के कारण वो जातिवादी मानसिकता मे आज तक ऊलझी है ! और छोड़िये इसे अपने उत्तराखंड का क्या हाल है कभी इस पर भी लिख डालिये ! पिछली बार आया था तो मुझे लगा कि उत्तराखंड दिनो दिन गर्त मे जा रहा है सड़क, बिजली मे बिहार बन गया है ! अब तो हर जगह मुल्ले बागलदेशी ही बसे दिखे जो कॉंग्रेस का वोट बैंक ही बन रहा है ! काठगोदाम से पंतनगर रेलवे स्टेशन तक रेलवे किनारे झुग्गी देखकर मन बड़ा दुखी हुआ आखिर वोट बैंक के लिये हरे झंडे वालों को बसा दिया गया है !! बहुगुणा जी भी विकास ना कर पा रहे है सिर्फ मुस्लिम वोट बनाने मे लगे है और अब लग रहा है की शायद अंतिम पहाड़ी मुख्यमंत्री बहुगुणा जी है इसके बाद सपा और बसपा के साथ कॉंग्रेस !!!