नैनीताल में सुबह-सुबह बुरी खबरः दूसरे प्रयास में झील में कूदकर मरा गरीबी, अकेलेपन, नशे से परेशान युवक

-शव मिलने के बाद पिता ने भी की झील में कूदने की कोशिश, कहा अब जीने के लिए कुछ नहीं, लोगों ने रोका

नैनी झील से शव को बाहर लाते पुलिस कर्मी

नैनीताल, 8 जुलाई 2018। सरोवरनगरी नैनीताल में रविवार की सुबह-सुबह नैनी झील में एक शव देखे जाने की बुरी खबर सुनाई दी। शव एक 32 वर्षीय युवक सुरेश कुमार पुत्र रमेश लाल आर्या निवासी राजपुरा मल्लीताल का निकला। मृतक सुरेश तीन भाइयों व एक बहन में मंझला व अविवाहित था, तथा मल्लीताल स्थित प्रतिष्ठित तेजपाल प्रतिष्ठान के माध्यम से बिजली की फिटिंग आदि का काम करके अपनी आजीविका चलाता था। कुछ वर्षों पूर्व मां की मृत्यु के बाद से अकेलापन होने के बाद अकेलेपन में नशे की गिरफ्त में भी फंस गया था। वह करीब 6 माह पूर्व भी झील में कूद गया था, लेकिन तब नाविकों ने उसे बचा लिया था। उसका शव मिलने के करीब 1 घंटे बाद पहुंचे होटल गाइड का काम करने वाले उसके पिता ने भी बदहवासी में झील में कूदने की कोशिश की, अलबत्ता लोगों ने उसे रोक लिया। उसका कहना था कि अब जीवन में जीने के लिए कुछ नहीं है।
मल्लीताल कोतवाली पुलिस के अनुसार मृतक सुरेश बीती 2 जुलाई को बिजली फिटिंग के कार्य पर जाने के लिए घर से निकला था। उसके पिता ने 2 दिन पूर्व 6 जुलाई को कोतवाली में उसकी गुमशुदगी दर्ज करायी थी। रविवार सुबह करीब सवा सात बजे सुबह की सैर पर निकले अधिवक्ता अंकित साह को उसका शव नयना देवी मंदिर के पास झील में स्थित ड्रम के पास दिखाई दिया। उन्होंने पुलिस को इसकी सूचना दी। मल्लीताल कोतवाल विपिन चंद्र पंत, उप निरीक्षक दीपक बिष्ट, आरक्षी मनोज जोशी, विशेष बाबू, कमल कुमार आदि उसके शव को झील किनाने मल्लीताल क्वालिटी बोट स्टेंड के पास लेकर आये, और पंचनामा भरकर शव को पोस्टमार्टम के लिए भिजवाया।

यह भी पढ़ें : 20 दिन बाद झील में उतराता मिला अल्मोड़ा के गुमशुदा युवक का शव

-24 अप्रैल को हुआ था गायब, नगर के पैराडाइज होटल में था कार्यरत
-पुलिस के अनुसार उसी दिन दोस्तों को नगर की ठंडी सड़क की फोटो के साथ आत्महत्या करने का भेजा था मैसेज
नैनीताल 11 मई 2018। बीती 24 अप्रैल से गुमशुदा अल्मोड़ा जनपद के ग्राम सुंदरपानी, बाराकोट थाना जैंती निवासी 18 वर्षीय युवक दीपक कुमार पुत्र अमर कुमार का शव शुक्रवार को 20 दिन के बाद नैनी झील में उतराता हुआ दिखाई दिया। पुलिस ने पंचनामा भरकर शव को पोस्टमार्टम के लिए भिजवाया। मृतक इंटरमीडिएट की परीक्षाएं देने के बाद नगर के मल्लीताल बैंक ऑफ बड़ौदा के पास स्थित होटल पैराडाइज में गुमशुदा होने के कुछ ही दिन पूर्व 10-11 अप्रैल से रूम सर्विस में नौकरी कर रहा था। 30 अप्रैल को मुख्यालय पहुंचे उसके परिजनों ने मल्लीताल कोतवाली में उसकी गुमशुदगी दर्ज करायी थी। तभी से पुलिस जांच अधिकारी एसआई भावना बिष्ट की अगुवाई में उसकी तलाश कर रही थी। परिजनों के द्वारा घटना वाले दिन दो युवकों के उससे मिलने होटल आने और उसके उन्हीं के साथ जाने की बात कही गयी थी, लेकिन घटना में किसी दोस्त की संलिप्तता से इंकार कर रही है। पुलिस का कहना है कि उसके गांव के कई युवक यहां है, और वे अक्सर उनसे मिलने आते थे।

गरीबी, परीक्षा में फेल होने का डर हो सकताा है मौत की वजह
नैनीताल। पुलिस का कहना है कि मृतक काफी खुशमिजाज व अच्छा इंसान था। दीपक की एक बड़ी शादीशुदा बहन व एक छोटा भाई है। वह इंटर की परीक्षा देकर काम की तलाश में नैनीताल आया था, और करीब पखवाड़े भर पहले ही मल्लीताल बैंक ऑफ बड़ौदा के पास स्थित पैराडाइज होटल में नौकरी में लगा था। इससे पूर्व भी एक वर्ष पूर्व वह कुछ समय के लिए पढ़ाई के बीच काम कर चुका था। घर से आते समय पर घर की बुरी आर्थिक स्थिति के कारण केवल 500 रुपए लेकर आया था। उसके इंटर के प्रश्न पत्र भी अच्छे नहीं गये थे। पुलिस इन्हीं कारणों के अवसाद को उसके द्वारा आत्महत्या करने की वजह मान रही है।

यह भी पढ़ें : अवैध संबंधों के शक ने ली युवक की जान

  • नैनी झील से बरामद हुआ अवैध संबंधों का शक जताने वाले युवक का शव
  • गाइड, नाव चालक व टैक्सी चालक के रूप में परिवार का गुजारा करता था युवक

    मृतक श्याम लाल

नैनीताल, 6 मार्च 2018। शक या वहम  एक बुरा रोग  है। अगर यह किसी को हो गया तो इसका इलाज हकीम लुकमान के पास भी नहीं है।  यह व्यक्ति को विवेकहीन बना देता है। इसी शक ने सोमवार को नैनीताल के एक मेहनती युवक की जान ले ली।

मंगलवार अपराह्न नैनी झील से उसका शव कांटा डालकर बरामद किया गया। उल्लेखनीय है कि मृतक सोमवार को नैनी झील के किनारे एक पत्र छोड़कर गायब हुआ था, जिसमें अपनी पत्नी एवं मकान मालिक के बीच अवैध संबंधों का शक जताया गया था, और उनके द्वारा अपनी हत्या किये जाने का शक जताया गया था। मृतक गाइड, नाव चालक व टैक्सी चालक के रूप में कार्य कर परिवार का गुजारा करता था।
प्राप्त जानकारी के अनुसार मृतक श्याम लाल (40) पुत्र दुर्गा राम मूल निवासी ग्राम लाधौली जिला अल्मोड़ा नगर में चिड़ियाघर रोड पर पार्वती इन होटल के पीछे किराये के घर में पत्नी गंगा देवी व तीन बच्चों सागर (13), सोनू (11) व कोमल (9) के साथ रहता था।

शव मिलने के बाद रोते-बिलखते परिजन।

सोमवार सुबह वह अपनी सबसे छोटी बेटी कोमल को नगर पालिका नर्सरी स्कूल में पढ़ने के लिए छोड़कर गया, जिसके बाद नैनी झील किनारे कैनेडी गार्डन के बोट स्टेंड के पास उसके जूते व एक पत्र प्राप्त हुआ था। इसके बाद से ही पुलिस उसकी तलाश कर रही थी। इधर मंगलवार अपराह्न करीब ढाई बजे तलाश के दौरान उसका शव पुलिस के कांटे में फंस कर बाहर आ गया। शव को बाहर निकालने में जल पुलिस के सुमित कुमार तथा तल्लीताल थाने के शिवराज राणा, रवींदर व मनोज नयाल के साथ ही स्थानीय नौका चालकों की उल्लेखनीय भूमिका रही। शव मिलने के बाद बहन गंगा देवी, पत्नी गंगा और बच्चों को रोते-रोते बुरा हाल था, जबकि मौके पर तमाशबीनों की भीड़ लग गयी। पुलिस ने शव को पंचनामा भरकर पोस्टमार्टम के लिये भिजवाया, जबकि मृतक के चचेरे भाई पंकज ने पुलिस को तहरीर सोंपकर उसके पत्र के आधार पर मौत के लिए जिम्मेदार लोगों के खिलाफ कार्रवाई करने की मांग की। तल्लीताल थाना प्रभारी प्रमोद पाठक ने कहा कि मामले की पूरी जांच की जाएगी, और तथ्यों के आधार पर कार्रवाई की जाएगी।

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...